Amazon की ओर से आप की पुस्तक पर छूट का मतलब

29 फरवरी 2020 तक मेरी पुस्तक “आधुनिक भारत हिस्टोरियोग्राफी पर निबंध संग्रह” पर खरीद के मूल्य पर छूट मिली है| पुस्तक की मूल कीमत 50 रुपए है परन्तु छूट पर कीमत केवल 19 रुपए है|






इस पुस्तक में 5 आलेख हैं जो आधुनिक भारत के इतिहासकारों पर चर्चा है| इस प्रकार का अध्ययन इतिहास के छात्रों के लिए आवश्यक हैं और जो इतिहास के अध्ययन के महत्व के जानते हैं उन के लिए अपने अध्ययन में परिपक्वता लाने में सहायक होगी|

अब इस आलेख के मुख्य पहलू पर बात करते हैं|

Amazon छूट क्यों और कैसे देता है?
Amazon मूल रूप में एक विक्रेता है| जितना आप अपनी पुस्तक की बिक्री के चाहवान हैं उतना ही Amazon भी चाहता है कि उस के Portal पर अगर कोई वस्तु बिकने के लिए आई है तो उस को खरीदार मिलें| इसी में दोनों का भला है|

Amazon अपने Portal पर बिक्री बड़ाने की हर संभव कोशिश करता है| उस के लिए वह कई प्रकार की schemes आदि लाता रहता है| यह सब गतिविधियां marketing का हिस्सा होती हैं|

अगर आप की पुस्तक उस के पोर्टल पर है तो Amazon उस को बिकता हुया देखना चाहता है| ऐसा आप भी चाहते हैं| इस का एक अच्छा तरीके है कि आप अपनी पुस्तक की कीमत कम कर दें| ऐसा आप खुद भी कर सकते हैं| यह Amazon भी आप के लिए करने को तैयार रहता है|

जब आप की पुस्तक Amazon अपने स्तर पर कम करने के लिए तैयार होता है तो पहले Amazon आप से आप की स्वीकृति मांगता है| आप को email भेज कर आप की पुस्तक को इस प्रकार की छूट के लिए nominate करने की अनुमती मांगता है| आप की पुस्तक पर आप से स्वीकृति मिल जाने पर वह अपने सम्पादकों को देता है| Amazon का अपना एक Amazon Review समूह है| आप उन के आलेख भी प्राप्त कर सकते हैं और उन से संपर्क भी कर सकते हैं| इस के साथ ही Amazon का एक अन्य दफ्तर लेखकों के साथ मिल कर काम करता है| वह दफ्तर Public Domain में मिलने वाली पुस्तकों का भी प्रकाशन करता रहता है जो कि मुफ्त में बेची जाती हैं| इस प्रकार amazon के पास एक Peer group बना रहता है जो कि एक पुस्तक को गुणवता के भिन्न मापदन्डों पर आंकते रहते हैं| यही समूह यह निर्णय लेता है कि किस पुस्तक पर छूट देना Amazon के लाभकारी होगा|

एक लेखक के रूप में अगर आप की पुस्तक इस प्रकार की छूट के लिए चयनित होती है तो आप के लिए एक सम्मान की बात है| आप की लेखनी को एक Peer Group के अवलोकन से गुजरना पड़ा और आप की पुस्तक चुन ली गई|

Amazon, Kindle Direct Publishing और Self-publishing परिपाटी को अपनाने वाले लेखकों को कुछ विद्वान हीन भावना से देखते हैं| यह विचार भी प्रचलित है कि इस परिपाटी से प्रकाशित पुस्तकें कचरा होती हैं| कोई भी कुछ भी प्रकाशित करता चला जाता है| परन्तु Amazon में बैठे सर्वेक्षकों को कम नहीं आंका जाना चहिये| वह एक बुद्धिजीवी वर्ग है जो किसी भी बुद्धिजीवी वर्ग का मुकाबला करता है|

मेरे 9 titles amazon पर उपलब्ध हैं| वह सभी nominate हो चुके हैं| इस में से संविधान पर लिखी पुस्तकें अभी तक मेरी सफल पुस्तकों में से है| उन की बिक्री बनी हुई है| वे केवल भारत में ही नहीं, वे विश्व के दूसरे महाद्वीपों में भी बिक रहीं है| मुझे लगता था कि उन पर छूट जारी होगी| परन्तु, यह छूट मेरी अब तक की नवीनतम पुस्तक पर जारी हुई है|

मैं उन पाठकों का धन्यवाद करता हूँ जिन्होंने इसे फरवरी में ख़रीदा है| अगर वह पाठक मेरी पुस्तक पर Ranking या टिप्पणी पुस्तक के amazon page पर दें तो मैं उन का शुक्रगुजार रहूँगा|

Catalogue of the Books by Sumir Sharma

Comments

Popular posts from this blog

क्या स्वयं-प्रकाशन लाभदायक व्यवसाय हो सकता है? (भाग 1)

सुमीर की पुस्तकों का Google Preview उपलब्ध हुया

भारत के संविधान का इतिहास - भारत में कंपनी शासन के समय के चार्टर अधिनियम 1773 - 1858 नोमिनेट हुई है|